20 Interesting Mood off shayari in hindi-मूड ऑफ शायरी

Spread the love

MoodMood off shayari in hindi-मूड ऑफ शायरी इन हिंदी चलिये कुछ mood off shayari देखते है जो आपकों काफी पसंद आएगा।Mood off shayari लोग तभी सुनना पसंद करते है जब दिल में दर्द हो।

Mood off shayari in hindi-मूड ऑफ शायरी

ख्वाब वो जो सपने में देखे हैं

सपने जो बंद आँखों में सोचे हैं

आँखे वो जो माता पिता के चेहरे पर

सफलता की उम्मीदे देखी हैं।

Khwaab wo jo sapne me dekhe hain

Sapne jo band ankho me soche hain

Ankhe wo jo mata pita ke chehre par

Safalta ki ummeede dekhi hain.

 

न जाने क्यों आज

वहाँ जाने का दिल कर रहा

जहाँ से कभी कोई लौट कर नही आता हैं।

Na jane kyu aaj

Waha jane ka dil kar raha

Jaha se kabhi koi laut kar nhi aata hain.

Mood off shayari

 

बात करने के लिए

टाइम वक़्त और मूड की

जरूरत नही हैं

बस दिल मे अहमियत होनी चाहिए।

Baat karne ke liye

Time waqt aur mood ki

Jarurat nhi hain.

Mood off shayari

 

ये कैसी दुनिया हैं

रहूँ उदास तो

कोई खबर तक नही पूछता

अगर मुस्कुरा दूँ

तो सब वजह पूछ लेते हैं।

Ye kaisi duniya hain

Rahu udaas toh

Koi khabar tak nhi puchta

Agar muskura du

To sab wajah puch lete hain.

 

जरूरी नही की

जीने का कोई सहारा हो

जरूरी नही की जिसके हम हो

वो भी हमारा हो।

Jaruri nhi ki

Jine ka koi sahara ho

Jaruri nhi ki jiske hum ho

Wo bhi hamara ho.

 

मत किया कर ऐ दिल किसी से

मोहब्बत इतनी

जो लोग बात नही करते

वो प्यार क्या करेंगे।

Mat kiya kar ae dil kisi se

Mohabbat itni

Jo log baat nhi karte

Wo pyaar kya karenge.

Mood off shayari

 

अजीब है मेरा अकेलापन

न उदास हूँ, न खुश हूँ

बस खाली हूँ और खामोश हूँ।

Ajeeb hain mera akelapan

Na udaas hoon, na khush hoon

Bas khali hoon aur khamosh hoon.

 

Mood off shayari-मूड ऑफ शायरी

तुम्हें न देख कर

कब तक सबर करूँ

आँखे तो बंद कर लूं

पर इस दिल का क्या करूँ।

Tumhe na dekh kar

Kab tak sabar karu

Ankhe toh band kar loon

Par iss dil ka kya karu.

 

हम अच्छे खिलाड़ी नही थे इसलिए

मात खा गए साहब,

वो खेल काचाल चल रहे थे और

हम रिश्ता निभा रहे थे।

Hum acche khiladi nhi the isliye

Maat kha gaye sahab

Wo khel ka chaal chal rahe the aur

Hum rista nibha rahe the.

 

रोज एक नई तकलीफ

रोज एक नया गम

ना जाने कब ऐलान होगा

की मर गए हम

Roj ek nayi takleef

Roj ek naya gum

Na jane kab ailan hoga

Ki mar gaye hum.

 

देखा हैं, मैंने

यह आलम इस जमाने में

बहुत जल्दी थक जाते है लोग

रिश्ते निभाने में

Dekha hain maine

Yah aalam iss jamane me

Bahut jaldi thak jate hain log

Ristey nibhane me

 

रूबरू होने की तो छोड़िए,

लोग गुप्तगु से भी कतराने लगे हैं

गुरुर ओढ़े है रिश्ते अपनी हैसियत पर

वो भी इतराने लगे हैं।

Rubaru hone ki toh chodiye

Log guptagu se bhi katrane lqge hain

Gurur odhe hain ristey apni hesiyat par

Wo bhi itrane lage hain.

 

तुझसे दूर हूँ

फिर भी दिल के पास हूँ

दिखता तो मैं खुश हूँ

लेकिन। मन से बहुत उदास हूँ।

Tujhse door hoon

Fir bhi dil ke paas hoon

Dikhta toh main khush hoon

Lekin maan se bahut udaas hoon.

 

कुछ हार गई तकदीर

कुछ टूट गए सपने

कुछ गैरो ने किया बर्बाद

कुछ भूल गए अपने।

Kuch haar gayi takdeer

Kuch tut gaye sapne

Kuch gairo ne kiya barbaad

Kuch bhool gaye apne

Mood off shayari

 

जब अकेला बैठा होता हूँ

तो उसकी बेवफाई याद आ जाती हैं।

जो किये उसने झूठे वादे

याद करके दिल मे दर्द और

आँखों में आँशु और झूठी ही सही होठो पर

हँसि आ जाती हैं।

Jab akela baitha hoon

Toh uski bewafai yaad aa jati hain

Jo kiye usne jhute wade

Yaad karke dil me dard aur

Ankho me anshu aur jhuti hi sahi hotho par hashi aa jati hain.

 

अब शिकायते तुम से

नही खुद से हैं…

माना कि सारे झूठ तेरे थे

लेकिन उनपर यकीन तो मेरा था।

Ab shikayte tum se

Nhi khud se hain

Mana ki sare jhut tere the

Lekin unpar yakeen toh mera tha.


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *